Melody Recalled or destroyed…

 It is said, the older the wine, the better, because some old things remain the best with time. And what if it is packaged in a new form? Does it become new? Maybe, but surely the essence does not remain the same. Why am I talking about these things is, the same goes with music... Continue Reading →

एक अनोखी शाम …..

उस सुनहरी शाम में ढलते सूरज के लालिमा से ढकी चढ़ते हुए चाँद की चांदनी में सजी एक अनोखी मदहोशी सी छा रही थी हर शाम तारों से सजी समूचे आकाश में तन के फैलती हुई रात्रि अपने आँचल की सिकुड़ती हुई रंगीनियों को देखकर बरबस चरमरा रही थी ढोल बाजे की धुन पर नाचते... Continue Reading →

याद हैं न?

वो दो लफ़्ज़ों की बातें, वो दो किस्सों की रातें वो दो पलों की मुलाकातें याद हैं न?   वो दो तारे जगमगाते वो दो जाम छलकाते वो दो गाने गुनगुनाते हम याद हैं न?   वो दो पलों का श्रृंगार, वो दो पलों का दीदार दीवार की ओट से झांकना उन्ही दो लम्हो में... Continue Reading →

Why!!!!

A thought popped up in my mind today, I think I'll share it with you Why the sky above is not so blue And the trees have reduced to few Why the birds those came to my sill every morning have seem to lost their way its only the smoke climbing the air I see... Continue Reading →

Blog at WordPress.com.

Up ↑