ख्वाइशें

दिल की खिड़कियों से झांकती ख्वाइशें, ज़माने की हकीकत से रुबरू होते ही सहम जाती है। आशा की निगाहों से आसमान को देखकर कुछ आज़ादी की चाह कर जाती है। उन्हें पुरे होने का ख्याल जब सताता है, दिमाग का रास्ता ढूंढने निकल जाती है। और जब दिमाग ही उनके मुंह पे अपना द्वार बंद... Continue Reading →

A havoc called Demonetization…

The mastermind behind the demonetization has possibly given the precise quote in the present havoc situation, after our PM declared the demonetization. “He has done this operation without the anesthesia”. he had said. The situation in the county today is no less than an emergency, with the only difference being that in an actual emergency... Continue Reading →

Create a free website or blog at WordPress.com.

Up ↑