रंग भर जाओ …..

एक रहता है इंतज़ार शाम ढलने का, की तुम आओ
अपनी प्यारी सी मुस्कान के साथ मुझे बुलाओ
दिन तो कट जाते है, राह तकते तुम्हारे
की रात की वीरानियों में तुम रौशनी बिखराओ।

कुछ बातें होती है दिल में, कहने की
हम ठहरते है दिल थामे की तुम ध्यान लगाओ
कुछ मेरी, कुछ तुम्हारी दास्ताँ के बीच
कुछ हमारी भी बातें तुम बनाओ

जब कदम खींच लाए मुझे तुम्हारे पास
करीब आ कर धीरे से कान में कुछ गुनगुनाओ
दो शब्द ही बोल दो प्यार से
और न मन हो तो बस दूर से ही मुस्कुराओ।

थक कर जब में सोफे पर सूस्ताऊ
पास बिठा कर अपने मेरे बालों को सहलाओ
मैं छुप जाऊ तुम्हारे आगोश में
और तुम धीरे से मुझे सुलाओ।

जब चढ़ना चाहूं ऊँचाई पे अपने सपनो के पीछे
बस साथ खड़े रह कर, पीछे से हाथ बढ़ाओ
अगर रुक जाऊ कभी लड़खड़ा कर राह में
हाथों में हाथ रख मुझे राह दिखाओ।

सब कुछ तो है मेरे पास अभी
बस एक ख्वाइश है कि, तुम आओ और मेरे हो जाओ।

Advertisements

4 Comments Add yours

  1. वाह वाह बहुत खूब

  2. Arpita Singhania says:

    Hey, Divyanka really a grt piece of work….M totally amused….Keep it up…Wanna read more😉

  3. Anonymous says:

    Thanku so much. You can read more here and also at my page.
    http://www.facebook.com/readmespeak
    Your feedback are awaited.

    Happy reading!!😊

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s